Ultimate magazine theme for WordPress.

योगी की अंग्रेजी राजनीति पर अखिलेश ने लगाया देशी लगाम

468

उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव इन दिनों भाजपा के लिए कहर बने हुए हैं. दरअसल योगी सरकार जिस तरह से राज्य में महिलाओं और दलितों की सुरक्षा को लेकर उदासीन बनी हुयी है….उससे अखिलेश यादव काफी गुस्से में नजर आ रहे हैं….और इस बार इन्हीं मुद्दों पर वो योगी सरकार पर जमकर बरसे. आपको बता दें की अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की असली रणनीति धोखा देना है….और वह कभी नहीं बदलेगी. उन्होंने कहा की भाजपा ने पूरा सामाजिक तानाबाना तोड़ दिया कर लोगों के आपसी भाईचारे में जहर घोलने का काम किया है ….जिससे जनता दुखी है . अखिलेश ने कहा कि राज्य सरकार अपराधियों को परोक्ष और प्रत्यक्ष रूप से मदद कर रही है….जो राज्य की जनता के लिए खतरनाक है….ऐसे में आपराधिक सियासत से मुल्क को बचाना उनकी प्राथमिकता है. उन्होंने कहा की सियासत में अच्छे लोग आएंगे तो सियासत स्वस्थ होगी और तभी नफरत की पराजय सुनिश्चित होगी. वहीँ इसके साथ ही अखिलेश यादव ने राज्य में CAA के विरोध में आवाज उठाने वाली महिलाओं को अपमानित किए जाने के प्रति आक्रोश जताया है. उन्होंवने कहा कि औरतों को भी आजादी का परचम उठाने का हक है. अखिलेश यादव ने साफ-साफ कहा की संघर्ष की कोई जाति नहीं होती और न ही संघर्ष हिन्दू-मुसलमान हो सकता है….दरअसल संघर्ष हमारे अधिकार में शामिल है और भाजपा उसको रोक कर लोगों के संवैधानिक अधिकारों को छिनना चाह रही है. उन्होंने कहा की भाजपा बदले और विद्वेष की भावना से विपक्ष पर हमलावर है….और उन्हें अपनी कुनीतियों का विरोध ‘देशद्रोह‘ लगता है. वहीं अखिलेश यादव ने समाजवादी सरकार के ‘यशभारती‘ सम्मान को भाजपा की राज्य सरकार द्वारा समाप्त किए जाने का योगी सरकार का दुर्भाग्य पूर्ण निर्णय बताया . उन्होंने कहा की यह निर्णय ‘यशभारती‘ का ही अपमान नहीं है बल्कि विद्धानों और अपने अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वालों का भी अपमान है. सपा प्रमुख ने आगे कहा की भाजपा की विचारधारा लोगों को जोड़ने के बजाय तोड़ने वाली है. ..और इनका स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों से कुछ लेना देना नहीं है. उन्होंने कहा की भाजपा सरकार में सरकार कम्पनी बन गई है. इस तरह अखिलेश यादव योगी सरकार पर जमकर बरसे की ….किस तरह यह सरकार राज्य में अंग्रेज़ी शासन लागू करना चाह रही है. जैसे अंग्रेजों के समय में लोगों को अपने शोषण के खिलाफ आवाज उठाने का अधिकार नहीं था. उसके तरह ही भाजपा सरकार में शोषण का खिलाफ आवाज उठाने वाले पर या तो लाठीचार्ज होता है या फिर उन्हें जेल की हवा खानी पड़ती है. वैसे अखिलेश यादव इस बार भाजपा के खिलाफ मजबूत चुनौती बनकर खड़ा हैं….और वो किसी भी कीमत पर राज्य की सत्ता से भाजपा को बाहर किये बिना चैन से बैठते नजर नहीं आ रहे हैं .

Leave A Reply

Your email address will not be published.