Ultimate magazine theme for WordPress.

AAP ने UP सरकार को बताया हत्यारों-बलात्कारियों की हितैषी

21

उत्तर प्रदेश में दलितों पर बढ़ते अत्याचार, हाथरस कांड और योगी के खिलाफ एक्शन की मांग को लेकर ….. आम आदमी पार्टी ने मोदी को चिट्ठी लिख कर एक्शन की मांग की है. दरअसल इस दिनों केजरीवाल की पार्टी भी दलितों के मुद्दे को जोर शोर से उठा रही है. इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद व यूपी प्रभारी संजय सिंह ने ……. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर आरोप लगाया है कि …..बीते कुछ महीनों से यूपी में जातीय आधार पर नफरत व हिंसा फैलाने का षडयंत्र चल रहा है…. जिसके सूत्रधार राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं. इसलिए उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से मांग की है कि योगी सरकार के इस कृत्य की जांच कर…… उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. वहीं संजय सिंह ने यूपी में जातीय हिंसा होने की आशंका व्यक्त करते हुए कहा है कि ….योगी प्रदेश में जातीय हिंसा फैलाना चाहते हैं….और इसमें तामाम तरह के आपराधिक तत्व उनका साथ दे रहे हैं. इसके आगे उन्होंने यूपी में दलित और पिछड़े समाज के लोगों के साथ अत्याचार, अन्याय और अपराध होने को लेकर योगी पर बड़ा आरोप लगाया. आप नेता ने कहा की योगी सरकार प्रदेश में दलितों के साथ लगातार हो रहे हत्या और बलात्कार जैसी घटनाओं में ……दलित समुदाय को न्याय देने की बजाय हत्यारों और बलात्कारियों का साथ दे रही है. वहीं उन्होंने पत्र में हाथरस की घटना का उल्लेख करते हुए लिखा की …… हाथरस में एक दलित बेटी के गैंगरेप करने के बाद उसकी हत्या कर दी जाती है….लेकिन योगी सरकार बलात्कारियों के साथ खड़ी हो गयी . उन्होंने कहा की बलिया कांड में भी मामला पिछड़े वर्ग से जुड़ा था इसलिए योगी सरकार हत्यारे को बचाने में जुट गई. संजय सिंह ने कहा कि यह सब सोची समझी साजिश के तहत …जातीय उन्माद और हिंसा फैलाने के लिए किया गया . उन्होंने कहा कि इस घटना से दलित समुदाय में भारी आक्रोश है और यह वाल्मीकि और जाटव समुदाय का घोर अपमान भी है. इस तरह संजय सिंह ने साफ साफ कहा कि योगी सरकार हत्यारों और बलात्कारियों के साथ खड़ी है. साथ ही सरकार दलितों और पिछड़ों को रोकने के लिए जातीय हिंसा को भी बढ़ावा दे रही है. इसलिए उन्होंने मोदी से योगी सरकार पर एक्शन लेने की गुजारिश की है. ऐसे में देखना यह है कि PM मोदी इस पर क्या प्रतिक्रिया देते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.