Ultimate magazine theme for WordPress.

BJP Claims that the Days of Kejriwal Government are Numbered

95

दिल्ली में लोकसभा चुनाव में भाजपा ने ऐतिहासिक जीत हासिल की है. इस जीत से दिल्ली में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी का सियासी कद भी बढ़ा है. अब पार्टी अगले वर्ष होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है.

दरअसल ,लोकसभा चुनाव में सुपर परफॉर्मेंस के बाद दिल्ली में बीजेपी अब 6 महीने बाद होने वाली विधानसभा चुनाव के लिए सुपर एक्टिव हो गई है.जी हाँ वैसे तो 70 सीटों की दिल्ली विधानसभा सीटों के लिए बीजेपी ने 60 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है. इसके लिए बीजेपी ने नया नारा दिया है. ये नारा है- पहले जीते सात में सात, अब जीतेंगे सत्तर में साठ. बीजेपी ने अभी से इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी है.

वैसे आपलोग को बता दे की देश की जनता ने प्रधानमंत्री में विश्वास दिखाते हुए यह माना है कि मोदी है तो मुमकिन है.वैसे तो 2014 में मोदी जनता के लिए उम्मीद थे लेकिन 2019 में विश्वास बन गए हैं. यही कारण है कि लोगों ने भाजपा को इतना बड़ा समर्थन दिया है. हालाँकि लोगों ने पांच साल के विकास और मजबूत नेतृत्व में अपना विश्वास जताया है. दिल्ली में सभी उम्मीदवारों ने रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की है. यह अप्रत्याशित है.जैसे की दिल्ली व देश के लोग विकास व मजबूत नेतृत्व चाहते हैं. जनता साफ नीयत से काम करने वाली सरकार व पार्टी के साथ खड़ी होती है.ऐसे में लोग झूठ व दुष्प्रचार की रणनीति को कभी स्वीकार नहीं करते. यह चुनाव परिणाम विपक्ष द्वारा किए गए दुष्प्रचार, झूठ, व्यक्तिगत आक्षेप और आधारहीन राजनीति के विरूद्ध दिल्ली के लोगों का जनादेश है.

वैसे तो दिल्लीवासियों ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि वह झूठ, फरेब व बहकावे की राजनीति करने वालों के साथ नहीं चलेंगे. वे भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनाकर दिल्ली को देश में बह रही विकास की धारा से जोड़ने को तैयार हैं.बता दे की यह निश्चित रूप से भाजपा विधानसभा चुनाव भी जीतेगी.हालाँकि नगर निगम चुनाव के बाद लोकसभा चुनाव में भी दिल्ली के लोगों ने नकारात्मक राजनीति करने वालों को सकारात्मक जवाब दिया है.और विधानसभा चुनाव में भी दिल्ली के लोग भाजपा को अपना समर्थन देंगे और नकारात्मक राजनीति करने वालों को उखाड़ फेंकेंगे. दिल्ली को अरविंद केजरीवाल से मुक्ति दिलाकर भाजपा सरकार बनाएगी.

भाजपा ने अब तक अपनी छवि ऐसी बनाई है जो की माना जा रहा है कि गुटबाजी और भीतरघात से बचने के लिए दिल्ली बीजेपी बिना सीएम के चेहरे के विधानसभा चुनाव लड़ेगी. पार्टी वोटरों को लुभाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे का ही सहारा लेगी. इसके लिए बीजेपी ने तभी बनेगी बात जब दिल्ली चले मोदी के साथ नारा दिया है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.