Ultimate magazine theme for WordPress.

BJP Government ने PoK (पाक अधिकृत कश्मीर) के लिए बनाया खास प्लान

119

भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड जीत को देखते हुए जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के लिए कमर कस ली है. जिसमे बीजेपी जम्मू-कश्मीर में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने की ताक में है. लेकिन चौंकाने वाली बात ये है कि बीजेपी ने पाक अधिकृत कश्मीर में चुनाव लड़ने की तैयारी में है. इसके लिए बीजेपी ने एक खास किस्म का चुनाव अभियान लॉन्‍च करने वाली है. यहां तक कि बीजेपी ने मन बना लिया है कि वो भारतीय चुनाव आयोग से आग्रह करेगी कि पीओके की 24 रिजर्व सीटों में कम से कम आठ पर चुनाव कराएं.आपको बता दे की जम्मू-कश्मीर में कुल 111 विधानसभा क्षेत्र हैं, लेकिन इनमें से 87 पर ही भारतीय चुनाव आयोग चुनाव कराता है. हलाकि पाक व चीन अधिकृत कश्मीर की 24 विधानसभा सीटें रिजर्व रखी गई हैं. ऐसा माना जाता है कि जब यह क्षेत्र भारत को वापस मिलेगा तो इन 24 सीटों पर चुनाव कराए जाएंगे. जैसे की साल 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में कुल 87 सीटों में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी ने 28, बीजेपी ने 25, नेशनल कॉन्फ्रेंस ने 15, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 12 व दूसरी छोटी पार्टियों व निर्दलीय उम्मीदवारों ने सात सीटें जीती थीं.और इसके बाद बीजेपी और पीडीपी ने चुनाव बाद गठबंधन कर पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में सरकार बनाई थी, लेकिन साल 2018 में बीजेपी ने पीडीपी से समर्थन वापस ले लिया और अब दिसंबर तक जम्मू-कश्मीर में फिर से विधानसभा होने की सुगबुगाहट है.बता दे की बीजेपी ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के अलावा चीन अधिकृत हिस्से के 24 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव आयोग से कुल 24 में से आठ पर ही चुनाव कराने का आग्रह करेगी.असल में हालिया लोकसभा चुनाव में जम्मू-कश्मीर की कुल छह सीटों में तीन सीटों जी विजय हासिल की है. इनमें सबसे अहम बात ये है कि बीजेपी को घाटी में ज्यादा वोट मिले हैं. जिसमे बीजेपी को सबसे ज्यादा ट्राल विधानसभा क्षेत्र में मिला है, जो दक्षिणी अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र के अंतरगत आता है.यहां तक पाकिस्तान सटे कई इलाकों में चुनाव का बहिष्कार हुआ था, इसलिए इस क्षेत्र में केवल 1.14 फीसदी ही वोट पड़े थे. इनमें कुल 1019 लोगों ने वोट डाला. लेकिन इतनी कम वोटिंग में भी बीजेपी को सबसे ज्यादा 323 व एनसी को 234 वोट मिले थे.दरअसल ,बीजेपी के अनुसार पाक अधिकृत कश्मीर के निवासी एक तिहाई से ज्यादा लोग एलओसी के इस पार प्रवास कर चुके हैं. ऐसे में अगर वहां के मतदाता इस पार आ रहे हैं तो क्यों नहीं उन्हें मतदान का मौका दिया जाए. इसके लिए बीजेपी ने जिस तरह से कश्मीरी पंडितों के लिए एम फॉर्म की व्यवस्‍था की गई है, उसी तरह से पीओके के प्रवासी भारतीयों के लिए यह व्यवस्‍था सुझाई है.बता दे की एम फॉर्म के अनुसार कश्मीरी पंडित भारत के किसी अन्य क्षेत्र में रहते हुए अपना वोट दे सकते हैं. इसी तरह सुझाया गया है, भारत में रह रहे पीओके से आए लोगों को अपने विधानसभा क्षेत्रों के नाम लिखते हुए चुनाव में शामिल होने की छूट मिले. वे अपने एम फॉर्म में अपने पीओके वाले विधानसभा क्षेत्र की जानकारी दें और वोटिंग में शामिल हों. हलाकि एम फॉर्म एक विस्तृत फॉर्म होता है जिसमें अपने निवास और नागरिकता को लेकर व्यापक साक्ष्य देने होते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.