Ultimate magazine theme for WordPress.

Mayawati ने EVM पर उठाये सवाल – By RR

123

लोकसभा चुनाव में गठबंधन को मनमुताबिक सफलता नहीं मिली है. इस वजह से बसपा सुप्रीमो ने आक्रामक रूप धारण कर लिया है. आपको बता दें की मायावती ने चुनाव परिणाम आने के बाद ईवीएम को लेकर हमला बोलते हुए कहा कि ..जनता का विश्वास इससे हट गया है. उन्होंने कहा कि गठबंधन ने जो सीटें UP में जीती हैं ….वहां इन लोगों ने ईवीएम में गड़बड़ी नहीं कराई ताकि जनता को शक न हो. मायावती ने कहा कि गठबंधन के सभी छोटे बड़े कार्यकर्ताओं ने पूरे तन-मन-धन से मेहनत और लगन से लगातार काम किया है. उन्होंने कहा की मैं सभी का आभार प्रकट करती हूं ….खासकर एसपी के प्रमुख अखिलेश यादव, आरलेडी के अजित सिंह ने अपनी पूरी ईमानदारी से काम किया है. वहीँ मायावती ने चुनाव के परिणाम आने के बाद मीडिया से कहा की….देश के राजनीतिक इतिहास में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन देखे हैं….समाज के दलित उपेक्षित वर्गों की सत्ता में भागीदारी भी बढ़ी है ….लेकिन इसे भी अब ईवीएम के माध्यम से सत्ताधारी पार्टी ने पूरे तौर से हाईजैक कर लिया है. उन्होंने कहा की ईवीएम से चुनाव कराने की यह कैसी व्यवस्था है….जिसमें अनेकों प्रमाण हमारे सामने आए हैं इसलिए पूरे देश में ईवीएम का लगातार विरोध हो रहा है… और आज आए नतीजों के बाद से तो जनता का इस पर से काफी कुछ विश्वास ही खत्म हो जाएगा. जबकि इस मामले में देश की अधिकतर पार्टियों का चुनाव आयोग में यह कहना है कि …ईवीएम के बजाये बैलट पेपर से चुनाव करायें. मायावती ने कहा कि चुनाव आयोग और बीजेपी को इस पर आपत्ति क्यों होती है…. न तो चुनाव आयोग तैयार है और न ही भाजपा मानने को तैयार है तो इसका मतलब कुछ तो गड़बड़ है. उन्होंने कहा की जिस तरीके के नतीजे देश में आए हैं….वह लोगों के गले से नहीं उतर रहा है. उन्होंने कहा की चुनाव मतपत्र से कराए जाने की मांग पर माननीय सुप्रीम कोर्ट को भी गंभीरता से विचार करना चाहिए, ऐसी हमारी माननीय सुप्रीम कोर्ट से भी पुरजोर मांग है. वैसे तो evm शुरू से ही विपक्ष के निशाने पर रहा है…पर चुनाव आयोग इस पर बिल्कुल सख्त है. हालाँकि मायावती को भी यह अनुमान नहीं था की गठबंधन को इतनी बड़ी हार मिलेगी. पर मायावती ने अभी हार नहीं मानी ही ..उन्होंने कहा की ऐसा नहीं है की वह इस हार पर चुप बैठ जाएँगी . मायावती ने अपने गठबंधन के एक रहने का संदेश देते हुये कहा की देश में अप्रत्याशित परिणामों के बारे मे आगामी रणनीति बनाने के लिये….हमारे गठबंधन बीएसपी-एसपी और आरएलडी तथा हमारी तरह पीड़ित अन्य पार्टियों के साथ भी मिलकर आगे की रणनीति तय की जाएगी. वैसे मायावती ने भले ही हार को लेकर EVM पर निशाना साधा हो….पर उनकी बातों से यह कहीं भी नहीं झलक रहा की वह अंदर से टूट गयी हैं. वहीँ समर्थकों को पूरी उम्मीद है की माया-अखिलेश की यह जोड़ी लम्बा टिकेगी…और अन्य चुनावों में अपना परचम लहराएगी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.