Ultimate magazine theme for WordPress.

Sunny Deol goes from one controversy to another

74

अभिनेता से नेता बने सनी देओल की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. पंजाब के गुरदासपुर से बीजेपी सांसद सनी देओल एक बार फिर सुरर्खियों में हैं.वजह है कि लोकसभा चुनाव 2019 में नियत धन राशि से ज्यादा खर्च.जी हां इसलिए लगातार विपक्ष पार्टी उनके लोकसभा सदस्यता भंग करने की मांग कर रहा है.आपको बता दें कि सनी देओल ने चुनाव में आयोग की ओर से तय राशि से ज्यादा धन खर्च किया थे .

यही कारन है की बीजेपी सांसद सनी देओल के ज्यादा खर्च करने की वजह से ही उनके खिलाफ जिला स्तरीय चुनाव निगरानी कमेटी जांच भी कर रही है.हालांकि अब तक जांच की रिपोर्ट सामने नहीं आई है, लेकिन कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ ने सनी देओल पर नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए उनकी लोकसभा सदस्यता भंग करने की मांग की है.ऐसे में जिला स्तरीय चुनाव निगरानी कमेटी ने अपनी जांच रिपोर्ट फिल्हाल राज्य चुनाव आयोग को भेज दी है. लेकिन रिपोर्ट में क्या सामने आया है इस पर अभी कोई जानकारी नहीं मिली है.

अगर रिपोर्ट सनी के खिलाफ पाई जाती है तो उनकी लोकसभा सदस्यता भंग हो सकती है.वैसे तो लोकसभा चुनाव के दौरान हर उम्मीदवार के लिए चुनाव आयोग ने कितनी धन राशि खर्च करना है ये तय कर दिया था. इसके मुताबिक हर प्रत्याशी को 70 लाख रुपए खर्च करना थे. लेकिन यहाँ सनी देओल ने अपने क्षेत्र में प्रचार के दौरान करीब 8 लाख 51 हजार रुपए ज्यादा खर्च किए.वहीं प्राथमिक रिपोर्ट में ये बात सामने आई कि सनी देओल ने निर्धारित सीमा से 18 लाख रुपए ज्यादा धन खर्च किया है.

और अधिक खर्च को लेकर जिला चुनाव अधिकारी ने सनी देओल को नोटिस भेजा और अपना पक्ष रखने को कहा.जवाब में उनके वकील ने कई खर्चों पर सवाल उठाए थे.बाद में जिला स्तरीय जांच कमेटी ने बारीकी से दोबारा चुनाव खर्च का मिलान किया है.बताया जा रहा है कि खर्चों के मिलान के लिए कमेटी ने सनी के साथ बैठक भी की थी. इस बैठक में दो ऑब्जर्वरों के अलावा जिला चुनाव अधिकारी और दो नोडल अफसर भी शामिल थे. कमेटी ने जांच के बाद खर्च में शामिल नौ लाख 76 हजार रुपये खारिज कर दिए.

ऐसे में साढ़े आठ लाख रुपए ज्यादा खर्च की बात सामने आते ही विरोधियों ने अपने स्वर तेज कर दिए. चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस प्रत्याशी सुनील जाखड़ ने सनी की लोकसभा सदस्यता भंग करने की मांग कर डाली.फिलहाल पंजाब के मुख्य चुनाव अधिकारी इस रिपोर्ट की जांच में जुटे हैं और अंतिम निर्णय इस जांच के बाद ही सामने आएगा. लेकिन तब तक विरोधियों के स्वर से लगता है कि सनी देओल की मुश्किल बढ़ सकती है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.